बहराइच-दरगाह शरीफ मेले की तैयारियां जोरो पर,26 मई से शरू हो रहा है ये ऐतिहासिक जेठ मेला।

On 24/05/2016    | Time: 11:52:39 AM | Source: Abdul aziz Bahraich (U.P.) | Visits: 9039



बहराइच-दरगाह शरीफ मेले की तैयारियां जोरो पर,26 मई से शरू हो रहा है ये ऐतिहासिक जेठ मेला।
बहराइच : (अब्दुल अज़ीज़) हिमालय की तरहटी पर बसे जंगलों के घनेरे में प्रदेश और देश के अति पिछड़े जनपद बहराइच में स्थित हिन्दू मुस्लिम एकता का प्रतीक हजरत सैय्यद सालार मसऊद गाजी रह0 के आस्ताने पर लगने वाले सदियों पुराने जेठ मेले की लगभग सभी तैयारियां पूरी हो गयी हैं और एक माह तक चलने वाला ये पारम्परिक जेठ मेल आगामी 26 मई से शुरू होने जा रहा है जबकि इस मेले का मुख्य आकर्षण 29 मई को ह0सैय्यद सालार मसऊद गाजी उर्फ़ बाले मियां की शादी की रस्म अदायगी के साथ मनाया जाना है।बहराइच के इस पारम्परिक जेठ मेले में शिरकत करने के लिए देश विदेश से लाखों की तादाद में जायरीन यहां आते हैं और अपने आस्था के दीप जला कर मुरादों की झोलियों से लबरेज होते हैं।इस मेले में जायरीनों के अलावा देश के कोने कोने से तरह तरह की दुकाने और खेल तमाशों के स्टाल आदि भी आते हैं जिनके आने का दौर जारी है,खास कर छोटे बच्चों की पसन्द छोटे बड़े झूले और खेल तमाशों के स्टाल और दुकाने लगनी शुरू हो गयी हैं।मेले को शांति पूर्वक सम्पन्न कराने के लिए बनने वाला अस्थायी थाना लगभग शुरू होने वाला है तो दूसरी तरफ जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक के अस्थायी कैम्प कार्यालय का निर्माण कराया जा रहा।उत्तर प्रदेश के पूर्वोत्तर में लगने वाले इस मेले की व्यवस्था को लेकर जिला प्रशासन भी चिंतित रहता है और उसके लिए जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने बैठकें कर मेला तैयारियों का जायजा भी लिया है तो दूसरी तरफ प्रदेश के परिवहन राज्य मंत्री यासर शाह ने जिलाधिकारी और दरगाह प्रशासन के साथ अलग अलग बैठकें कर मेला व्यवस्था की समीक्षा करते हुए आवश्यक दिशा निर्देश भी जारी किये।हमेशा की तरह इस बार भी दरगाह प्रशासन ने मेले से पूर्व बड़ी बड़ी तैयारियों का दावा किया है लेकिन अब देखना ये है कि इनके ये दावे कितने सार्थक हो पाते हैं।अभी तक की व्यवस्था के बारे में इस ऐतिहासिक मेले में दूर दराज से आने वाले खेल तमाशे के शो मालिकाना व दुकानदारों ने नाम न छापने के अनुरोध के साथ बताया कि बीते की सालों की तरह इस साल भी दरगाह प्रशासन द्वारा हम दुकानदारों का शोषण किया जा रहा है।हमारी क़दीमी जगहों के आवंटन में हमसे बड़ी बड़ी रकमें वसूली गयी हैं और इसके बावजूद भी मेला शरू होने पर हमसे फ्री पास की अलग से मांग की जाती है यही नही किराये की रशीद में भी हमारे साथ हमेशा धोखा ही दिया जाता है जिसके आधार पर हमसे तो बड़ी बड़ी रकम किराये के रूप में ली जाती है और रशीद मिलती है चन्द रुपयों की।दूसरे दुकानदारों का ये भी आरोप है कि उनकी पुरानी दुकानों को दूसरों को आवंटित किया गया है और हमारे आने पर इसी बात को लेकर हमसे ब्लैक मेलिंग कर अच्छी खासी रकम वसूली कर हमको हमारी दुकानें उपलब्ध करायी गयी हैं।मेले की व्यवस्था को लेकर जब इस संवाददाता द्वारा दरगाह कार्यालय और उनके काम काजों की समीक्षा की गयी तो पता चला कि मेला क्षेत्र में लगने वाली दुकानों में से आधे से ज्यादा दुकानें दरगाह शरीफ कार्यालय में काम करने वाले लोगों और यहां के खादिमों के नाम पर आवंटित हैं जिनको ये लोग मेले के समय में बाहर से आने वाले दुकानदारों को बड़ी बड़ी रकम लेकर शिकमी के तौर पर किराये पर देते रहते हैं और इन सब अवैध कामों में दरगाह प्रशासन की पूरी पूरी सहभागिता रहती है।यही नही मेले की व्यवस्था को लेकर बिजली,पानी,साफ सफाई और चिकित्सा आदि में भी हर साल लाखो करोड़ों रूपये का गोल माल किया जाता है।इस बार भी दरगाह प्रशासन ने मेले की व्यवस्था को लेकर बड़े बड़े दावे किये है लेकिन उनके सारे दावे चार दिन के बाद अपने आप सभी के सामने आने वाले हैं।मौसम के बदलते मिजाज की वजह से इस बार अधिक गर्मी होने की सम्भावना है और ऐसे में पानी और साफ सफाई अहम चुनौती है जबकि स्थानीय नगर पालिका चेयरमैन हाजी रेहान ने मेले के दौरान साफ सफाई की व्यवस्था और पानी आदि के लिए अपनी। सेवायें देने का ऐलान किया है जबकि दूसरी तरफ इस मेले में किसी किस्म की व्यवस्था में आ रही परेशानियों से निपटने और जायरीनों को हर सम्भव सुविधा उपलब्ध कराने के लिए परिवहन मंत्री यासर शाह ने जिलाधिकारी को भी निर्देशित किया है।इस जेठ मेले में अब आस्थाओं का सैलाब उमड़ चुका है और दूर दराज से आने वाले जायरीनों को सिलसिला भी शुरू हो गया है।