गहन चिकित्सा क्षेत्र में नयति ने चिकित्सकों और नर्सो के लिए शुरू किए पाठयक्रम

On 25/07/2018    | Time: 18:06:42 PM | Source: Mathura News | Visits: 42



गहन चिकित्सा क्षेत्र में नयति ने चिकित्सकों और नर्सो के लिए शुरू किए पाठयक्रम
मथुरा । ब्रज और देश के दूसरे शहरों में विश्वस्तरीय उपचार को आम आदमी तक पहुंचाने के अपने प्रयास की कड़ी में नयतिचिकित्सा क्षेत्र में कार्यरत लोगों को प्रशिक्षत करने का कार्य लगातार करता रहा है। इसी प्रयास के चलतेहाल ही मेंनयति मेडिसिटी में उत्तर प्रदेश का पहला मिनिमल एक्सेस सर्जरी एवं लैप्रोस्कोपिक सर्जन के लिए फैलोशिप कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। अगले चरण में नयति अब देश के विश्वस्नीय संस्थानों में से एक इंडियन सोसायटी ऑफ क्रिटिकल केयर मेडिसन के सहयोग से डाक्टरों और नर्सो को गहन चिकित्सा (क्रिटिकल केयर) का पाठयक्रम शुरू करने जा रहा है।

इस प्रशिक्षण में कई प्रकार के स्नातरोत्तर कोर्सो का संचालन किया जाएगा। यह कोर्स 1 वर्ष व 2 वर्ष की अवधी के होंगे। इंडियन सोसायटी ऑफ क्रिटिकल केयर मेडिसिनसंस्था के सहयोग से किया जाने वाला इंडियन डिप्लोमा इन क्रिटिकल केयर मेडिसिन का कोर्स एमडी,एमएस, डीएनबी डिग्री धारकों के लिए 1वर्ष का एवं एन्सथिसिया एवं टीबी एवं छाती रोग में डिप्लोमा धारकों के लिए 2 वर्ष का होगा। यह कोर्स एमबीबीएस के छात्रों के लिए भी उपलब्ध रहेगा व कोर्स पूरा होने पर सर्टीफिकेट भी प्रदान किया जाएगा। वहीं नर्सो के लिए गहन चिकित्सा में एक वर्षीय कोर्स इंडियन डिप्लोमा इन क्रिटिकल केयर नर्सिंग भी उपल्बध है।

इस अवसर पर नयति हेल्थकेयर के सीईओ डा आर के मनी ने कहा कि आमजन तक आधुनिक चिकित्सा को पहुंचाने के लिए हम लगातार इस प्रकार के प्रयास करते रहते हैं। बात डाक्टरों के प्रशिक्षण की हो या अनुभव साझा करने की हमारा सदा यही प्रयास रहता है कि हम विश्वस्तरीय उपचार और दूर के क्षे़़त्रों के बीच की दूरी को कम कर सकें क्योकि अच्छे स्वास्थ से इंसान की खुशियां जुडी हैं और गुण्वत्ता वाली चिकित्सा सेवाओं पर सभी का समान अधिकार होना चाहिए। मेडिकल सांइस में शामिल होने वाली नई तकनीकों से चिकित्सकों एवं नर्सिंग स्टॉफ को प्रशिक्षित करने से दूर कस्बों, गावों तक के लोगों को फायदा पहुंचेगा और इलाज को मरीज के पास पहुंचाने की हमारी मुहिम को बल मिलेगा।

इस अवसर पर नयति मेडिसिटी के मेडिकल एजूकेशन डीन डा पी के कोहली ने कहा कि मेडिकल साइंस में आए दिन नए बदलाव आ रहे है नई खोजें हो रही हैं चिकित्सा पद्वति आधुनिक हो रही है इसलिए हमारा यह प्रयास है हम इन बदलावों से चिकित्सा क्षेत्र में कार्य रहे लोगों को अवगत कराएं।इसी प्रयास में हम चिकित्सकों, नर्सिग स्टाफ से लेकर टैक्निशियनों के लिए विभिन्न कोर्सो का संचालन कर रहे हैं। यह कोर्स बुनियादी स्तर से लेकर एंडवास लेवल तक के हैं।हमारे द्वारा शुरू किए गए कोर्स के माघ्यम से चिकित्सक व नर्सिंग स्टॉफ आधुनिक चिकित्सा के नए प्रारूपों से रूबरू हो पाएंगे। आईएससीसीएम संस्था देश की जानी मानी एंव विश्वस्नीय संस्था है जिसके सहयोग से हम इस कोर्स का संचालन कर रहे हैं। भावी पीढ़ी के चिकित्सकों और नर्सिग क्षेत्र में कार्यरत लोगों के लिए आधुनिक चिकित्सा को करीब से समझने का यह एक सुनहरा अवसर है। डा कोहली ने कहा कि नयति ने हाल में ही अपनी इस्टिटूयशल एथिक्स कमेटी का रजिस्ट्रेशन सीडिएससीओ में कराया है जो भारत सरकार के स्वास्थ मंत्रालय के अंर्तगत आने वाली संस्था है ,जिससे हमारे डाक्टर्स और पीजी के छात्र अपने अनुसंधानों और थीसिस का अनुमोदन भी यहां करा सकेंगे।





नयति हेल्थकेयरं एवं रिसर्च प्रा. लि. के बारे में : नयति हेल्थकेयर एवं रिसर्च प्रा़ लि़ भारत का पहला मल्टी सुपर स्पेशियल्टी हेल्थकेयर संस्थान है, जो िंटयर 2 एवं टियर 3 शहरों में प्रीमियम टर्शियरी केयर प्रदान करता है। यह अत्याधुनिक मेडिकल तकनीक एवं इलाज की सुविधाओं के साथ विश्वस्तरीय पेशेंट केयर सेवाएं भी प्रदान करता है। संस्थान का लक्ष्य किफायती एवं आसानी से उपलब्ध हेल्थकेयर सेवाएं प्रदान करना है।



नयति मेडिसिटी मथुरा के बारे में :नयति मेडिसिटी, मथुरा क्षेत्र का पहला हॉस्पिटल है, जो प्रारंभ होने के बाद से ही सेंटर ऑफ एक्सिलेंस के द्वारा इंटीग्रेटेड, व्यापक एवं हाई क्वालिटी हेल्थकेयर प्रदान कर रहा है। इस सेंटर में अत्याधुनिक इंटेंसिव केयर यूनिटें हैं, जिनमेंएमआईसीयू, सीसीयू, एसआईसीयू, एनआईसीयू एवं पीआईसीयू शामिल हैं। मथुरा स्थित यह हॉस्पिटल वृंदावन, पलवल, फिरोजाबाद, मैनपुरी, कासगंज, इटावा, एटा, हाथरस, आगरा एवं आसपास के क्षेत्रों तक के लोगों को सेवाएं दे रहा है।