जिलाधिकारी ने कलेक्ट्रेट का निरीक्षण किया

On 13/03/2018    | Time: 14:37:00 PM | Source: Mathura News | Visits: 51



जिलाधिकारी ने कलेक्ट्रेट का निरीक्षण किया


दायित्व निर्वहन की शिथिलता पर होगी कार्यवाही

विभिन्न पटल सहायकों को सुधार लाने की चेतावनी दी

कई कार्यालयों में साफ-सफाई न होने पर जताई नाराजगी

मथुरा 12 मार्च/ जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्र ने कलेक्टेªट का निरीक्षण करते हुए कहा कि वार्षिक निरीक्षण का उद्देश्य है कि सभी पटलों पर काम-काज ठीक से हो और जनसामान्य को कलेक्टेªट में होने वाले कार्यों की अच्छी छवि मिले। उन्होंने बताया कि विभिन्न पटलों पर जो कमियां पायी गई हैं उनको गम्भीरता से लेते हुए उनको चेतावनी दी गई है और जो लापरवाही कर रहे हैं उनके विरूद्ध विभागीय कार्यवाही सुनिश्चित करायी जायेगी।

डीएम द्वारा निरीक्षण की शुरूआत सहायक अभिलेखीय अधिकारी कार्यालय से की गई, कार्यालय में पर्याप्त रोशनी तथा साफ-सफाई न होने पर नाराजगी प्रकट करते हुए एडीएम फाइनेंस से कहा कि संबंधित की जिम्मेदारी तय करते हुए कार्यवाही सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी ने संयुक्त कार्यालय के निरीक्षण में पत्रावलियों का अवलोकन करने लम्बित सन्दर्भों की पंजिका में अंकन विगत कई माह से अद्यतन न होने पर वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी को निर्देश दिये कि तत्काल पूरे पटल का निरीक्षण करें और ईआरके से सन्दर्भों को प्राप्त कर दोषी के विरूद्ध आरोप पत्र जारी कर विभागीय कार्यवाही सुनिश्चित करें।

इसके पश्चात डीएम ने रिकॉर्ड रूम में थानावार रिकॉर्डों को देखा। न्याय अभिलेखपाल संगीता चतुर्वेदी से शासनादेशों के बारे में जानकारी नहीं देने पर निर्देशित किया कि पटल प्रभारी को जानकारी होना आवश्यक है। विनष्टीकरण की सूची अपडेट होनी चाहिए तथा संबंधित बस्ता में उपलब्ध होना जरूरी है। ईआरके सेक्सन में पटल प्रभारी को भी निर्देश दिये कि अपने पदीय दायित्वों का निर्वहन करते हुए वरिष्ठ अधिकारियों के आदेशों का अनुपालन सुनिश्चित करें।

सीआरए सेक्सन में वसूली के बाद आरसी वापसी का विवरण देखा तो स्थिति संतोषजनक नहीं पायी गयी, जिस पर उन्होंने एडीएम फाइनेंस से कहा कि तहसीलदारों को निर्देशित करें कि जिनकी वसूली हो गई है उन्हें वापस करें। नजारत कार्यालय में कलेक्टेªट के महत्वपूर्ण अभिलेखों का निरीक्षण किया और वरिष्ठ अधिकारियों के आदेशों का अनुपालन सुनिश्चित न होने के लिए संबंधितों का एक सप्ताह में स्पष्टीकरण एडीएम फाइनेंस के माध्यम से प्रस्तुत करने के निर्देश दिये।

भूलेख कार्यालय में राजस्व परिषद के सन्दर्भों की पंजिका न होने पर भूलेख लिपिक गंगाश्याम शर्मा को प्रतिकूल प्रविष्टि तथा सहायक भूलेख अधिकारी के विरूद्ध विभागीय कार्यवाही प्रारम्भ करने के लिए आरोप पत्र जारी कर एडीएम फाइनेंस को जांच अधिकारी नामित किया। इसी प्रकार डीएलआरसी राकेश बाबू गुप्ता को अपने पटल की जानकारी न होने पर आरोप पत्र जारी करने के निर्देश दिये। उन्होंने संबंधित पटल प्रभारियों को चेतावनी दी कि या तो अपने पदीय दायित्वों को निर्वहन करें अन्यथा कार्यवाही के लिए तैयार रहें। जनसामान्य की सुविधा के लिए किये जा रहे कार्यों में शिथिलता मिलने पर संबंधित के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी।

निरीक्षण के दौरान अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व रवीन्द्र कुमार, नगर मजिस्टेªट डा0 बसन्त अग्रवाल, डिप्टी कलेक्टर आदित्य प्रजापति, एसडीएम सदर का्रन्तिशेखर सिंह, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी अशोक शर्मा सहित संबंधित पटलों के प्रभारी उपस्थित रहे।