कंकड़ शंकर खण्ड काव्य का हुआ विमोचन

On 16/10/2017    | Time: 21:53:35 PM | Source: U.P. Hamirpur Viswaveer | Visits: 38



कंकड़ शंकर खण्ड काव्य का हुआ विमोचन
सुमेरपुर-हमीरपुर (विश्वबीर)। काव्य क्षितिज पर देदीप्यमान, श्रेष्ठ कवि स्वामी नित्यानन्द द्वारा रचित कंकड़ शंकर खण्ड काव्य का विमोचन गत दिवस अखिल भारतीय सहित्य परिषद के राष्ट्रीय सम्मेलन जबलपुर में सम्पन्न हुआ। जिसमें 22 राज्यों के मूर्धन्य कवि। साहित्यकार व गोवा के राज्यपाल मृदुला सिन्हा भी उपस्थित रहे।

तत्वदर्शी कवि र्मनीषी स्वामी जी द्वारा कंकड़त्व शंकरत्व मीमांसा पर लिखे गये खण्ड काव्य का विमोचन कालीदास संस्कृत विश्वविद्यालय उज्जैन के कुल पति डा. मिथिला प्रसाद त्रिपाठी, केन्द्रीय हिन्दी संस्थान आगरा के निदेशक डा. नन्दकिशोर पाण्डेय, उ0प्र0 हिन्दी संस्थान लखनऊ के पूर्व निदेशक डा. विद्या बिन्दु सिंह, केरल विश्वविद्यालय के पूर्व विभागाध्यक्ष (हिन्दी) डा. पंजीदेवकी व अखिल भारतीय साहित्य परिषद के पवन पुत्र बादल के कर कमलो से हुआ। सभी मूर्धन्य कवियों ने इस खण्ड काव्य जिसमें कंकड से शंकर की यात्रा आत्म से चैतत्य की यात्रा है को बेहद सराहा। इस खण्ड काव्य के विषय में डा. चंद्रिका प्राद दीक्षित ललित ने कहा है कि इस खण्ड काव्य में देश प्रेम की माटी की सुगन्ध है मानवता को मुक्ति प्रदान करने का सामाजिक अनुबंध भी है। कन्नौज के कवि सुलभ अग्निहोत्री ने खण्ड काव्य पर टिप्पणी करते हुये कहा है कि ठडेश्वरी आश्रम सुमेरपुर में साधनारत विद्वान कवि ने अपनी कृति में कंकड़ शंकर के बिम्बो के माध्यम से राष्ट्र में व्याप्त सारी विसंगतियों पर प्रहार किया है।