निमाड़ के युवा ने किया पश्चिम बंगाल की संस्कृति का अध्ययन

On 14/07/2017    | Time: 18:02:54 PM | Source: M.P. Khargon Gourav Mandloi | Visits: 442



निमाड़ के युवा ने किया पश्चिम बंगाल की संस्कृति का अध्ययन
बैड़िया, खरगोन प.निमाड़, म.प्र. (गौरव रामेश्वर मण्डलोई) निमाड़ क्षेत्र के बेडिया के युवा गौरव मण्डलोई को 2 माह के लिए पश्चिम बंगाल की संस्कृति, कला तथा विरासत को जानने का मौका मिलाद्य उन्होंने मई माह के मध्य से जुलाई माह के मध्य तक पश्चिम बंगाल राज्य के 6 जिलो में रह कर वहां की लोकसंस्कृति तथा कला का अध्ययन किया द्य इस दो माह के समय में वे बांग्लानाटक डॉट कॉम (ठंदहसंदंजां कवज बवउ) नामक संगठन के साथ कार्यरत थे द्य यह संगठन पश्चिम बंगाल संस्कृति मंत्रालय तथा यूनेस्को न्छम्ैब्व् नयी दिल्ली से सम्बद्ध हैद्य इस प्रवास के दौरान गौरव ने मादुरकाठी बुनाई, डोकरा धातु कला, पट्टचित्र, काष्ठ मुखा, बाउल संगीत, आदि कलाओं के बारे में जाना और राज्य सरकार द्वारा निर्मित रूरल क्राफ्ट्स हब के रखरखाव एवं प्रबंधन को ले कर एक मार्गदर्शिका बनाने हेतु अपना सहयोग दियाद्य

गौरव ने बताया- “यह प्रवास सेंटर फार हेरिटेज मैनेजमेंट, अहमदाबाद यूनिवर्सिटी में चल रहे उनके अध्ययन का एक हिस्सा था द्य हमारी अमूल्य धरोहर, संस्कृति, कला तथा विरासत को जीवंत रखने और सुनियोजीत रूप से अगली पीढियों तक पहुँचाने के लिए भारत में विरासत प्रबंधन अथवा हेरिटेज मैनेजमेंट और जागरूकता फैलाने की आवश्यकता है जिसे कई स्थानों पर लागू भी किया गया हैद्य निमाड़ क्षेत्र भी अपर संभावनाओं से भरा हुआ है और यहाँ भी बहुत सारा काम किया जा सकता हैद्य विरासत को जन जन तक पहुचाने के लिए युवाओं का अभिरक्षक/ संरक्षक बन कर आगे आना बहुत जरुरी हैद्य

ज्ञात हो की यह युवा पिछले 4 वर्षो से निमाड़ की संस्कृति, विरासत तथा अजेय योद्धा श्रीमंत बाजीराव पेशवा प्रथम के स्मारक के बारे में जागरूकता फ़ैलाने हेतु सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय है , साथ ही इस युवा ने कई समारोहों में निमाड़ का प्रतिनिधित्व भी किया है